देश और दुनिया की चोरी की वारदातों में आपने अक्सर पैसे या गहनों या कीमती समान की चोरी होते देखा और सुना होगा। लेकिन क्या कभी आपने सुना है कि कहीं नदी चोरी कर ली गयी हो। सुनकर बकवास सा लगता है लेकिन वास्तव में ऐसा हुआ है। यहीं नहीं यह नदी महज़ चार दिन के अंदर ही चोरी हो गयी थी।

दरअसल कनाडा में सैकड़ों साल से बह रही तकरीबन 150 मीटर चौड़ी स्लिम्स नदी महज चार दिनों में ही सूख गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ग्लोबल वार्मिंग का असर दुनिया भर की नदियों पर दिख रहा है। आपको बता दें कि तमाम अध्ययनों में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि बदलते मौसम की मार नदियों पर ज्यादा पड़ रही है। नदियों की इस दशा को वैज्ञानिक ‘रिवर पाइरेसी’ मान रहे हैं यानी नदियों की चोरी।

Also Read:   इस बार्डर पर गोलियां नहीं चलती बल्कि खेले जाते हैं वॉलीबॉल के मैच!

दरअसल, स्लिम्स नदी बहाव बढ़ने के कारण पुराने रास्ते के बजाय अलास्का की ओर बहने लगी और अलास्का नदी में उसका विलय हो गया। शोधकर्ताओं का कहना है कि स्लिम्स नदी मौसम में हो रहे बदलाव के कारण सूखी है। द गार्जियन की खबर के मुताबिक, स्लिम्स नदी कास्कावुल्श ग्लेशियर से सैकड़ों साल से जिंदा थी। मौसम में आए बदलाव के कारण यह ग्लेशियर पिघलने लगा है, जिसके कारण नदी का बहाव काफी तेज हो गया और उसने रास्ता ही बदल लिया था।

Also Read:   सावधान, कैंडी खाने से पहले ये खबर जरूर पढ़ लें

एक वैज्ञानिक ने बताया कि नदी में यह बदलाव जल्द नहीं हुआ है, इसमें लंबा समय लगा है। उन्होंने कहा कि यह ग्लोबल वार्मिंग की वजह से हुआ है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लेशियर की बर्फ पिघली है और तेज बहाव के कारण नदी का रुख बदल जाता है। उन्होंने कहा कि इस नदी के अलास्का की तरफ मुड़ जाने के कारण अलास्का नदी का जलस्तर बढ़ गया है। हालांकि पहले दोनों नदियां एक जैसी थीं, लेकिन अब एक का अस्तित्व खत्म हो गया है जबकि दूसरी नदी कई गुना बड़ी हो गई है।

Also Read:   अच्छे-अच्छे नौजवानों को मात दे सकती है इस बुजुर्ग की ताकत
No more articles