मां तय करती है अपनी बेटी के जिस्म की कीमत , बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के ‘चतुर्भुज स्थान’ नामक जगह पर स्थित वेश्यालय का इतिहास मुगलकालीन है। यह जगह भारत-नेपाल सीमा के करीब है और यहां की आबादी लगभग 10 हजार है। पुराने समय में यहां पर ढोलक, घुंघरुओं और हारमोनियम की आवाज ही पहचान हुआ करती थी। बिहार में यह धंधा पारवारिक है, यानी कि मां के बाद बेटी को अपने जिस्म का सौदा करना पड़ता है।

Also Read:   ज्‍योतिष के अंधविश्‍वास में ये महिला बेचने लगी अपना जिस्म

यूं तो चतुर्भुज स्थान का नामकरण चतुर्भुज भगवान के मंदिर के कारण हुआ था, लेकिन लोकमानस में इसकी पहचान वहां की तंग, बंद और बदनाम गलियों के कारण है। बिहार के 38 जिलों में 50 रेड लाइट एरियाज़ हैं, जहां दो लाख से अधिक आबादी बसती है। ऐसे में यहां पर वेश्यावृत्ति का धंधा काफी बड़े पैमाने पर पैर पसारे हुए है।

Also Read:   बाप रे! लड़की के खतरनाक बाइक स्टंट से उड़े सबके होश
1 2
No more articles