Lafdatv Hindi

देश दिल्ली के स्कूल की शर्मनाक हरकत, रेप पीड़िता से कहा-मत आओ स्कूल, हमारी बदनामी होगी

दिल्ली के स्कूल की शर्मनाक हरकत, रेप पीड़िता से कहा-मत आओ स्कूल, हमारी बदनामी होगी

राजधानी दिल्ली में एक शर्मनाक मामला


By Lafdatv - February 10, 2018



राजधानी दिल्ली में एक शर्मनाक मामला सामना आया है जिसमें एक प्राइवेट स्कूल ने अपनी बदनामी से बचने के लिए रेप विक्टिम को स्कूल अटेंड नहीं करने दिया जा रहा। इस बात की रेप पीड़िता के पैरंट्स ने दिल्ली महिला आयोग के पास शिकायत की है। पैरंट्स ने आरोप लगाया कि जिस प्राइवेट स्कूल में उनकी बेटी पढ़ती है, उस स्कूल ने उनके सामने शर्त रखी है कि उनकी रेप विक्टिम बेटी को 11वीं क्लास में इसी शर्त पर ऐडमिशन मिलेगा कि वह स्कूल नहीं आए।

पैरंट्स का कहना है कि स्कूल को ऐसा लगता है कि उनकी लड़की के रोजाना स्कूल आने से उनके स्कूल की बदनामी हो सकती है। स्कूल प्रशासन ने दूसरी शर्त यह भी रखी है कि विक्टिम की स्कूल में सेफ्टी की जिम्मेदारी उनकी नहीं होगी। इस लड़की का अपहरण कर चलती कार में रेप करके उसे सड़क पर फेंक दिया गया था। पीड़िता का परिवार दिल्ली महिला आयोग से मदद चाहता है।

पैरंट्स की शिकायत के बाद आयोग ने इस मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए एजुकेशन डिपार्टमेंट को नोटिस जारी किया है। पीड़िता के पैरंट्स ने आयोग को बताया कि स्कूल ने उनकी बेटी की स्कूल बस भी बंद कर दी है और उन्हें ही अपनी बेटी को स्कूल ले जाना पड़ता और लाना भी पड़ता है। लड़की के पैरंट्स का आरोप है कि इससे पहले स्कूल की प्रिंसिपल यह भी बोल चुकी हैं कि उनकी बेटी की वजह से उनके स्कूल की इमेज खराब हो सकती है, इसलिए बेहतर यही है कि वे अपनी बेटी को दूसरे स्कूल में ऐडमिशन करवा दें।

लड़की के पैरंट्स का आरोप है कि उनकी बेटी की क्लास में उनके दोस्तों को भी उसके साथ बैठने से मना कर दिया गया था। उनका यह भी कहना है कि उनकी बेटी को तरह-तरह से परेशान किया जा रहा है, ताकि उनकी बेटी स्कूल छोड़ दे।

सामना आया है जिसमें एक प्राइवेट स्कूल ने अपनी बदनामी से बचने के लिए रेप विक्टिम को स्कूल अटेंड नहीं करने दिया जा रहा। इस बात की रेप पीड़िता के पैरंट्स ने दिल्ली महिला आयोग के पास शिकायत की है। पैरंट्स ने आरोप लगाया कि जिस प्राइवेट स्कूल में उनकी बेटी पढ़ती है, उस स्कूल ने उनके सामने शर्त रखी है कि उनकी रेप विक्टिम बेटी को 11वीं क्लास में इसी शर्त पर ऐडमिशन मिलेगा कि वह स्कूल नहीं आए।

पैरंट्स का कहना है कि स्कूल को ऐसा लगता है कि उनकी लड़की के रोजाना स्कूल आने से उनके स्कूल की बदनामी हो सकती है। स्कूल प्रशासन ने दूसरी शर्त यह भी रखी है कि विक्टिम की स्कूल में सेफ्टी की जिम्मेदारी उनकी नहीं होगी। इस लड़की का अपहरण कर चलती कार में रेप करके उसे सड़क पर फेंक दिया गया था। पीड़िता का परिवार दिल्ली महिला आयोग से मदद चाहता है।

पैरंट्स की शिकायत के बाद आयोग ने इस मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए एजुकेशन डिपार्टमेंट को नोटिस जारी किया है। पीड़िता के पैरंट्स ने आयोग को बताया कि स्कूल ने उनकी बेटी की स्कूल बस भी बंद कर दी है और उन्हें ही अपनी बेटी को स्कूल ले जाना पड़ता और लाना भी पड़ता है। लड़की के पैरंट्स का आरोप है कि इससे पहले स्कूल की प्रिंसिपल यह भी बोल चुकी हैं कि उनकी बेटी की वजह से उनके स्कूल की इमेज खराब हो सकती है, इसलिए बेहतर यही है कि वे अपनी बेटी को दूसरे स्कूल में ऐडमिशन करवा दें।

लड़की के पैरंट्स का आरोप है कि उनकी बेटी की क्लास में उनके दोस्तों को भी उसके साथ बैठने से मना कर दिया गया था। उनका यह भी कहना है कि उनकी बेटी को तरह-तरह से परेशान किया जा रहा है, ताकि उनकी बेटी स्कूल छोड़ दे।


Tag : ,

चर्चित खबरें

World More Stories