अब आप किराने दुकान से वाई-फाई डेटा ले सकते हैं। जी हां, आपने सही सुना। आप चलते फिरते ठेलेवालों से भी वाई-फाई डेटा से सकते है। पड़ोस की किराने की दुकान से वाई-फाई के जरिए सस्ता वाई-फाई डेटा ले सकते है। सेंटर फॉर डिवेलपमेंट ऑफ टेलिमैटिक्स (C-DoT) ने कम दाम पर वाई-फाई देने के लिए 50 हजार रुपये से कम खर्च वाला एक टेक सलूशन डिवेलप किया है।

C-DoT के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर विपिन त्यागी ने कहा, ‘आज डिजिटल इंडिया की पहुंच भारत के हर कोने तक नहीं है मगर PDO के जरिए ठेलेवाला भी सस्ते में वाई-फाई सर्विसेज दे सकेगा। लोग 10 रुपये या इससे भी कम में पड़ोस की किराने की दुकान से डेटा सर्विस खरीद सकेंगे।’ सरकार का टेलिकॉम रिसर्च और डिलेपमेंट सेंटर इस PDO सलूशन से शुक्रवार को पर्दा उठाएगा।

Also Read:   दो वकीलों के प्यार का ये हुआ अंजाम, चौंक जाएंगे आप

C-DoT के टेक सलूशन में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एलिमेंट्स हैं। PDO डिवाइस से लैस किराने की दुकानें या ठेलेवाले 10 रुपये या इससे भी कम के डेटा वाउचर्स बेच सकेंगे। वे लाइसेंस फ्री ISM बैंड के तहत ये सर्विस दे पाएंगे। वाई-फाई देने के लिए e-KYC, OTP ऑथेंटिकेशन और वाउचर मैनेजमेंट मकैनिज़म की मदद ली जाएगी। बिजली से चलने वाले इस डिवाइस में बिलिंग सिस्टम भी है।

Also Read:   इंटरनेट और स्कॉट सर्विस के जरिए चल रहें सेक्स रैकेट का भंडाफोड़

C-DoT के मुताबिक ग्रामीण और सेमी-अर्बन इलाकों में छोटे रीटेलर्स या दुकानदार PDO के जरिए 2.4 GHz से 5.8 GHz के बैंड की फ्रिक्वेंसी को इस्तेमाल कर सकते हैं जो कि इस्तेमाल करने के लिए फ्री है। ये फ्रिक्वेंसीज़ कम्यूनिकेशन के लिए इस्तेमाल होने वालीं अन्य फ्रिक्वेंसीज़ में किसी तरह का दखल नहीं देतीं।

Also Read:   120 साल के संत, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में करेंगे आवेदन

PDO टेक्नॉलजी को C-DoT अपनी 20 मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर कंपनियों को ट्रांसफर करने जा रही है। इनमें हिमाचल फ्यूचरिस्टिक कम्यूनिकेशंस लिमिटेड (HFCL), BHEL और ITI Ltd शामिल हैं। ये कंपनियां इन डिवाइसेज का कमर्शल उत्पादन करेंगी।

No more articles